जित्थु हुंगी छोरिुयां छोरु भी ओत्थु जाणगेे

जित्थु हुंगी छोरिुयां छोरु भी ओत्थु जाणगे
जित्थु खिडगे फूल भो्रे ओत्थु मण्डराणगे ।

पिच्छें -पिच्छें आणगे ता पिछलगु कहलाणगे
गुड़रियां उड़ी जाणा तुषां फड़दे रह जाणगे ।

जित्थु जलगी शमा परवाने ओत्थु आणगे
खुशी-खुशी अपणी जान नु लूटाणगे
प्यार दी खातिर हाय मर मिट जाणगे
जित्थु हुंगी छोरिुयां छोरु भी ओत्थु जाणगेे ।

शमा जलदी रहेगी परवाने जल जाणगे
शमा नु परवाने छू तक नहीं पाणगे
कट-कट के चक्कर खुद मिट जाणगे
गुड़रियां उड़ी जाणा तुषां फड़दे रह जाणगे ।

जित्युु हुंगी कुआरियां कुआरे ओत्थु जाणगेे
दिल अपणा हथेली पर रख ले जाणगे
मिठियां-मिठियां गलां करी कुआरियां नूू पटाणगे
जित्थु हुंगी छोरिुयां छोरु भी ओत्थु जाणगेे ।

कुआरियां नूू पटाके दिलवाले ले जाणगे
तुषां साई डरपोक दिखदे रह जाणगे
चुपचाप हथ मली घरचले जाणगेे
गुड़रियां उड़ी जाणा तुषां फड़दे रह जाणगे ।

बालक राम चौधरी ( हिमाचली )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *