चढ़दी जवानी चढ़दी जवानी खड़ा दा पाणी

चढ़दी जवानी चढ़दी जवानी खड़ा दा पाणी रोके नी रुकदा है माईया घरे ते बाहर मैं किञां करी निकलां करदे न छोरू तंग माईया । साल सोलबां ये कैसा आया ओ गई बदली मेरी सारी काया ओ मन होई गिया बड़ा शैतान ओ लोक कहदें मैं हो गई जवान ओ इन्हा छोरूआं जो मैं कयो कुछ बोलाॅं करदे हैन अंग अपणे ही तंग माईया । जवानीअा दा कैसा ये जादू ओ मन होई गिया वेकाबू ओ दिल तोड़़ी के बंंधंन सारे ओ तोड़ना चाहंदा तारे ओ किल्ली बैठी बड़ी वौर जे हुंदी हुण मिंजो भी तौर दे कुसी दे संग माईया । चाल मस्त-मस्त मस्तानी ओ अंग- अंग पे छाई जवानी ओ शीशा बणी गिया वैरी ओ छण-छ ण करे मेरी पैरी ओ कोई दसे क्या होया रे मिंजो किञां बदली गिया मैरा चलने दा ढंग माईया ।

बालक राम चौधरी ( हिमाचली )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *