हुण चढ़ी बाबे जो हिमाचली चुटकला

4-5 भंगड़ दोस्त थे. से जाहली जे भंग पींदे ता बोलदे थे जय भोले नाथ. इक सूटा लगाणा कने बोलणा “जय भोले नाथ”. भगवान् भोले नाथ तिन्हा भंगड़ा ते प्रसन्न होई गए | भोले नाथे सोच्या क्युं ना इन्हा जो दर्शन दित्या जाए | इक दिन 4-5 भंगड़ दोस्त च भंगा दे सुट्टे मारा दे थे, ता भोले नाथ बाबे दा भेस बणायी कने तिन्हा वाल पूजी गए | भंगड़ा तिन्हा दा बड़ा आदर किता कने तिन्हा जो भंग दी चिलम दे दिति |

बाबे इक सुटा मारेया कने चिलम खाली, चिलम दोबाराjai bhole nath भरी गेई | बाबे भीरी इक सुटा मारेया कने चिलम खाली, इहियाँ करदे-करदे बाबा पंज चिलमा पी गया | भंगड़ परेशान ! ओ अरा असां ता इक्को ही चिलमा कने मुंधे होई जांदे कने ऐ ता पंज पी गया कने हिलया नी, सै अप्पु चिये बोला दे थे | चलो कोई गल्ल नी ! हुण तिन्हा डबल डोज़ बनायीं कने चिलम भरी दिति, पर बाबा भीरी पंज पी गया | भंगड़ हैरान परेशान !

बाबे सोच्या चलो भतेरा होया, हुण इन्हा जो अपणी असलियत दस्सी जाए | सै बोल्ले, देखो जी मैं हूँ शिव शंकर भोले नाथ ! मैं तुसां दिया भगतिया कने सेवा ते बड़ा प्रसन्न होया ! मंगा जो भी बरदान मंगणा, हुण पूरा करदा |

बाबे दे, इतना बोलदे ही इक भंगड़ उठी गया ! कने जोरा कने बोल्या, “ओए चढ़ गई बाबे नू.. ओए हुण चढ़ी बाबे नू भंग”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *