हिमाचली छैल बांके पहाड़ी चुटकले

» इकी शहरे दी कुड़िया दा ब्याह ग्रांये (गांव) च होइ जांदा ,
कुड़िया दी सस बोल्दी कि जा मही (भैंस) जो घा (घास)पाई आ,
कुड़ी जांदी, कने मही (भैंस) दे मुहें च झाग दिखदि कने बापिस आ जांदी ,
सस बोल्दी – क्या होया लाडिये ! मही (भैंस) जो घा नई पाया ?
कुड़ी बोल्दी, सासु जी – मेह (भैंस) ता अजे पतांजलि टूथपेस्ट करा दी है !! «himachali joke

» तुसां कदी सोच्या ?
.
हॉस्पिटल च मरीजे जो ऑप्रेसशने ते पहले बेहोश कजो करदे ?
.
अगर बेहोश नी किता ता कने मरीज ऑपेरशन करना सीखी गया ता,
डॉक्टरां दा ता धंधा चोपट होइ जाणा !! «

» मुंडू – अपणी सहेली जो – तीजो च रब सुजदा मैं क्या करा ?
सहेली- करना क्या तू !! मथा टेक , पैसे चडाई जा कने अगे चलदा चल ,
और भी भक्त लग्यो लैणा च !! «




» इक गल दिखी जाये ता कि दुनिया च कोई भी इंसान शाकाहरी नी है !! सोचा जरा से कियां ?
क्योंकि दिमाग खाने दी आदत ता सारयां जो होंदी है !! «

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *