हुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ हिमाचली लोकगीत

humhimachaliहुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ, बापुएं लडें तेरे ओ लायी !
रिडिया ता रिडिया धुडू भला नसदा नालें ता खोलें गौरां तोपदी !!
कजो वो कुआरी बाबुल दे घरें, अज वो ब्याइयाँ कजो भला छोडदा !
गौरां ता गोरां हक्कां वो लाइयाँ, गौरां ता गोरां ता हक्का ना वो सुनदी !!
मगरियां चालीं चल मेरे धुडुआ, नाजुक पैरां छाले ओ आये !
छन्द छन्द धुडुआ भाली ओ लयां, नाजुक लत्ता ना चलदी !!
मलिया रा कूड़ा मलिया सुटना, ना तेरी धीयाँ ना तेरी जोतनी !
असं भला होंदे मलिया रे जोगी, तू ता हुंदी राजे दे बेटी !!
उचेयाँ कैलाशा शिव मेरा बसदा,कुन वो ग्लांदा गौरां नी बसदा !
हुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ, बापुएं लडें तेरे ओ लायी !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *