हुण तु होर नी तरसायाॅं बालमा

खड्डा पार मेरा गाओं खड्डा पार मेरा गाओं है अंगणे च ठंडी छांओं है पल भरी वई जयां बालमा दो गलां लाई जयां जालमा।

बिजली लशकेेे बदल गड़के है धुक-धुक दिल मेरा धड़के है हवा दा कैसा ये शोर ओ दिल पर चले नी कोई जोर ओ हुण तु होर नी सतायाॅं बालमा दो गलां लाई जयां जालमा ।

मैं क्या कितया कसूर ओ तु कयो होई गिया मिंजो ते दूर ओ समझे नी तु मेरा दर्द ओ पता नी कैसा तु मर्द ओ हुण तु होर नी तड़पायाॅं बालमा दो गलां लाई जयां जालमा ।

रोई-रोई हाखीं दा चली गैया नूर ओ पर तु ब़ड़ा ही करूर ओ अज मन बड़ा ही उदास ओ तिजो ते भी रई नी कोई आस ओ हुण तु होर नी तरसायाॅं बालमा दो गलां लाई जयां जालमा ।

बालक राम चौधरी ( हिमाचली )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *